About Me

My photo
The Madman, "Yes, three days, three centuries, three aeons. Strange they would always weigh and measure. It is always a sundial and a pair of scales."

Friday, May 29, 2015

(135)



धुंध-सी है कुछ-
क्या बीता है ऐसा जो मौसम यूं मुंह छुपा रहा है?
हवा भी संभले झोंकों मे चल रही है,
सारी वादी भीगी पड़ी है ठंडी ओस मे
मानो रात भर चुपके से पानी बरसा हो,
फूल-पत्ते ऐसे सहमे पड़े हैं जैसे किसी भयानक सपने से आँख खुली हो,
पंछी कोनों मे दुबके देख रहे हैं-
ज़ाहिर है कोई वहम सता रहा है उन्हे,
मेरी चाय भी कप में रखी-रखी ठंडी हो गयी,
बड़ी बे-मन आई है ये सुबह।

2 comments:

  1. I can't relate more with this poem!! some mornings indeed are very negative and insipid. Lovely poems :)

    ReplyDelete
    Replies
    1. Haha! We may find fault in the morning, but aren't we just seeing a reflection of our own inner selves? Basically, mood acha to morning bhi achi chaahe jaisi ho!
      I'm glad you liked this. Thank you :)

      Delete