About Me

My photo
The Madman, "Yes, three days, three centuries, three aeons. Strange they would always weigh and measure. It is always a sundial and a pair of scales."

Monday, August 10, 2015

(143)



तेरी तराशी हुई मिट्टी की इस दुनिया में
ख़्वाब साबित करने पड़ते हैं
पूरे नहीं होते

यहाँ जज़्बात आज़ाद उड़ते नहीं
चहरे पहने दीवारों के पीछे टिके रहते हैं

गीत आवाज़ों और ख़्यालों मे उलझे हुए हैं
मस्ती मे गूँजते नहीं

इरादे नीयमों और मजबूरीयों में क़ैद हैं
वरना तेरी क़ायनात सारी ख़ुशबू से भरी होती

तेरे ख़्वाबों की इस दुनिया मे ख़्वाबों का ही मोल नहीं
यहाँ ख्वाबों के उजालों को
क़िस्से-कहानियों मे बंद कर के बुझा दिया जाता है

तू ने बड़े शौक़ से बनाई थी ये दुनिया
ग़ौर कर और बता
शौक़ पूरा हुआ?


[ "...ख़्वाब साबित करने पड़ते हैं..." गुलज़ार की कविता “अगर ऐसा भी हो सकता” (रात पश्मीने की) की आख़री लाइन है ]

2 comments:

  1. Wo chehre laga kar
    jazbaaton ke kaanch ko bacha lena chupa lena chaahta tha
    is duniya ki rookhaai se
    apni hi tanhaai se

    Wo geeton ko apne
    khayalon mein uljha lena chaahta tha
    is duniya ko wo cheekhte-se karkash lagte the

    Par khwabon ko kisse kahaniyon mein band nahi kia tha usne
    bas duniya se chupa kar
    chupchaap har roz chalta tha
    sooraj sa har shaam dhalta tha
    par roz uthta tha
    wo jaanta tha khwab saabit karne padenge
    duniya ko
    par poore toh wo ho rahe the usme
    uske har din ke haunslon mein..

    khwab is jahan mein poore bhi kahan ho sakten hain
    wo bas saabit ho sakten hain.
    poore toh wo bas mann mein ho sakte hain..
    :)
    u inspired me to write another verse.
    beautiful introspection..yours:) loved it

    ReplyDelete
    Replies
    1. Wow! You're really good at weaving verses :)
      Thanks a ton for sharing this here, it's honestly quite flattering.. महकते चाँद की बरसती चाँदी में, देखो, मेरा घर भी महंगा-महंगा लगता है

      Delete